तिर्थराज सम्मेद शिखरजी की पावन धरा पर मांसाहार हो पूर्ण प्रतिबंध ! सागर सव्वालाखे ने कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मांग !!

0
75

अमरावती जिल्हा प्रतिनिधी, जगदिश न्युज

तीर्थराज सम्मेद शिखरजी में मांसाहार एवं शराब पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने को लेकर श्री दिगंबर जैन ग्लोबल युवा महासभा के अमरावती जिलाध्यक्ष सागर सव्वालाखे (जैन) नांदगांव खंडेश्वर ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी को एक पत्र भेजा। जिसमें उन्होंने कहा की, पर्वतराज सम्मेद शिखरजी में हो रहे अत्याचार एवं मांसाहार, शराब आदि की बढ़ती बिक्री को लेकर चिंता जताई। सागर सव्वालाखे जैन ने बताया कि सम्मेद शिखरजी जैनों का सबसे बड़ा तिर्थ है। जहासे जैनो के 24 तीर्थंकर में से 20 तीर्थंकर ने श्री सम्मेद शिखरजी की पावन धरा से मोक्ष प्राप्त किया था। यहां लाखों की संख्या में पूरे विश्व से लोग दर्शन व यात्रा को आते हैं। लोग बिना जूते नंगे पाव 27 किलोमीटर पैदल वंदना करते हैं।

उन्होंने कहा कि यहां आकर लोग रात्रि भोजन का त्याग करते हैं। और ऐसी जैनों की आस्था की धरती में मांसाहार शराब आदि का सेवन व बिक्री करना घोर अपराध है। जहां जैनी एक मच्छर एक चींटी तक भी मरने को अपराध मानते हैं। वहां मांसाहार आदि का सेवन और बिक्री पवित्र धरा को अपवित्र करना घोर अपराध है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here